Mutual Fund क्या है और कैसे Work करता है? (Mutual Fund kya hai kaise kam karta hai)

Mutual Fund क्या है और कैसे Work करता है(Mutual Fund kya hai kaise kam karta hai) : म्यूच्यूअल फण्ड को हिन्दी में पारस्परिक  निधि कहते हैं। यह एक प्रकार का सामूहिक कोष है।

Mutual Fund क्या है और कैसे Work करता है?
Mutual Fund क्या है और कैसे Work करता है?

दरअसल, इसमें निवेशकों के समूह मिलकर स्टॉक या किसी अन्य सिक्योरिटीज में निवेश करते हैं। म्यूचुअल फंड में एक फंड मैनेजर होता है जो यह तय करता है कि फंड को किसमें निवेश करना चाहिए। इसमें होने वाले फायदे और नुकसान की जानकारी रखता है। निवेशकों के बीच लाभ और हानि को विभाजित करता है।

Mutual Fund क्या है और कैसे Work करता है

जिन लोगों को शेयर बाजार की जानकारी नहीं है या जो इसमें निवेश करना चाहते हैं उनके लिए म्युचुअल फंड एक बेहतरीन जरिया है।

म्यूचुअल फंड मैनेजर कौन होता है?

वास्तव में म्यूच्यूअल फण्ड को चलाने वाला फंड मैनेजर एक पेशेवर, विशेषज्ञ और अनुभवी व्यक्ति होता है। इसमें निवेशकों को शेयर खरीदने या बेचने की चिंता नहीं करनी पड़ती है, म्यूच्यूअल फण्ड में यह सारी चिंता फण्ड मैनेजर द्वारा की जाती है।

फंड कंपनी को चलाने के लिए फंड मैनेजर के अधीन एक टीम भी काम करती है, जो फंड में बदलाव करने के लिए रिसर्च करती रहती है।

म्यूचुअल फंड में निवेश करने के क्या फायदे हैं?

अगर आपको शेयर बाजार का ज्ञान नहीं है तो आप म्यूचुअल फंड की मदद से अप्रत्यक्ष रूप से शेयर बाजार में निवेश कर सकते हैं।

ज्यादातर लोग अपना पैसा बैंक एफडी में निवेश करते हैं। बैंक में निवेश करने पर आपको अधिकतम 5 से 6% रिटर्न मिलता है, लेकिन अगर आप म्यूचुअल फंड में निवेश करते हैं, तो कम से कम आपको बैंक से अच्छा रिटर्न मिलेगा।

अगर आप सीधे शेयर बाजार में निवेश करते हैं, तो आपको हर शेयर की कीमत पर नजर रखनी होगी कि कब कौन सा शेयर बेचना है, कब कौन सा शेयर खरीदना है और अगर आपको शेयर बाजार की अच्छी जानकारी नहीं है तो आपको नुकसान हो सकता है। आपका सारा पैसा।

यदि आप शेयर बाजार के बजाय म्यूचुअल फंड में निवेश करते हैं, तो आपको यह सब नहीं देखना है, फंड मैनेजर को वह सब देखना है, आपको केवल एक अच्छे फंड मैनेजर की रेटिंग देखकर उस फंड में निवेश करना है और वह फंड कंपनी।

म्यूचुअल फंड के प्रकार?

1. इक्विटी फंड:

इसमें कंपनी सभी निवेशकों का पैसा इकट्ठा कर इक्विटी शेयरों में निवेश करती है। इस फंड को अत्यधिक जोखिम भरा माना जाता है।

2.डेब्ट फंड:

इसमें निवेशकों का पैसा ज्यादातर कॉर्पोरेट लोन योजनाओं या सरकारी योजनाओं में लगाया जाता है।

3. बैलेंस फंड:

इसमें फंड कंपनी निवेशकों का पैसा इक्विटी और डेब्ट दोनों में निवेश करती है।

4. गिल्ट फंड:

यह फंड सबसे सुरक्षित माना जाता है। कंपनी अपना सारा पैसा सरकारी योजनाओं में लगाती है। इसमें सरकार का बैकअप होने के कारण यह फंड सबसे सुरक्षित और अच्छा माना जाता है।

मुझे किस म्यूचुअल फंड में निवेश करना चाहिए?

भारत में कई म्यूचुअल फंड उपलब्ध हैं। आप म्यूच्यूअल फण्ड के पिछले रिकॉर्ड को देखकर भी निवेश कर सकते हैं यानी कितने साल में यह कितना ऊपर या नीचे हुआ है।

आप विभिन्न म्यूचुअल फंड संगठनों द्वारा दी गई रेटिंग के आधार पर एक अच्छे म्यूचुअल फंड में निवेश कर सकते हैं। लेकिन ज्यादातर रेटिंग बदलती रहती हैं। म्यूचुअल फंड चलाने वाले फंड मैनेजर के अनुभव के आधार पर आप म्यूचुअल फंड में भी निवेश कर सकते हैं। या आप अपनी पसंद के अनुसार किसी भी फंड में निवेश कर सकते हैं जैसे अगर आपको ऑटो सेक्टर की ज्यादा जानकारी है तो आप ऑटो सेक्टर के किसी भी फंड में निवेश कर सकते हैं।

अगर आप फार्मा सेक्टर का भविष्य देख रहे हैं तो आप फार्मा सेक्टर के किसी भी फंड में अपना पैसा लगा सकते हैं। अगर किसी को सोने चांदी की ज्यादा समझ है तो वह किसी भी असेट्स म्यूचुअल फंड में अपना पैसा लगा सकता है. आपके अनुसार आप अपना पैसा किसी भी म्यूचुअल फंड में निवेश कर सकते हैं।

म्यूचुअल फंड में निवेश कहां से शुरू करें?

आप कई म्यूचुअल फंड संगठनों से सीधे संपर्क करके अपना खाता वापस ले सकते हैं। अगर आपको ऑनलाइन प्रक्रिया की थोड़ी भी जानकारी है तो आप घर बैठे किसी म्यूचुअल फंड कंपनी में रजिस्ट्रेशन और निवेश कर सकते हैं।

म्यूचुअल फंड में निवेश करने के लिए सबसे अच्छे ऐप कौन से हैं?

आप नीचे दिए गए लिंक से किसी एक ऐप में पंजीकरण (आधार ऑनलाइन केवाईसी) करके म्यूचुअल फंड में निवेश शुरू कर सकते हैं।

  1. ग्रो ऐप
  2.  कुवेरा ऐप

रजिस्ट्रेशन कराने के और भी कई माध्यम हैं, लेकिन ज्यादातर लोग इसी माध्यम का इस्तेमाल करते हैं।
क्या आपने अभी तक म्यूचुअल फंड में निवेश शुरू नहीं किया है तो ऊपर दिए गए लिंक की मदद से जल्द से जल्द अपना खाता खोलें और निवेश करना शुरू करें।

Mutual Fund सिप में कितना रिटर्न मिलता है?

ऐसी कोई फिक्स वैल्यू नहीं होती, अलग-अलग में 56 के अलग-अलग रिटर्न होते हैं और यह डिपेंड करता है कि इक्विटी, डेट या कोई और, लेकिन अगर आप मोटा मोटी रखते हैं तो मीटर फंड का रिटर्न बैंक से ज्यादा होगा जमा करना। और अगर आप हाइब्रिड फंड में निवेश करते हैं तो आपका जोखिम कम हो जाता है।

वैसे तो बैंक का रिटर्न 6 से 8% से ऊपर नहीं होता है, अगर हम म्यूच्यूअल फण्ड की बात करें तो यह ज्यादातर बैंक के फिक्स्ड डिपॉजिट से ज्यादा होता है।

एसआईपी में निवेश कैसे करें?

इसके लिए आपको हर महीने में किसी भी एक दिन एक निश्चित राशि निश्चित करनी होती है, उस दिन आपके खाते से उस राशि की राशि काट ली जाती है, यदि आप एक महीने में राशि का भुगतान नहीं करते हैं, तो आप उसे स्किप भी कर सकते हैं। 

FAQ

प्रश्न: म्युचुअल फंड क्या है?
ANS: म्यूच्यूअल फण्ड यानि सबका पैसा एक ही फण्ड में जमा हो उसे म्यूच्यूअल फण्ड कहते है.

प्रश्न: म्यूचुअल फंड कितने प्रकार के होते हैं?
ANS: डेट, लिक्विड, लार्ज कॅप, मिड कॅप, स्माॅल कॅप, मल्टी कॅप, फ्लेक्सी कॅप, इएलएसएस ऐसे 8 प्रकार हैं।

प्रश्न: क्या म्युचुअल फंड जोखिम भरा है?
ANS: हां, यह थोड़ा रिस्की जरूर है, लेकिन रिस्क के हिसाब से रिटर्न कम या ज्यादा होता है।

प्रश्न: क्या म्यूचुअल फंड बैंक एफडी से ज्यादा रिटर्न देते हैं?
ANS: हां, आप जितने साल निवेश करते हैं, आपको बैंक से उतना ही ज्यादा रिटर्न मिलता है, लेकिन यह इस बात पर भी निर्भर करता है कि आप किस फंड में निवेश करते हैं।

प्रश्न: क्या हम म्यूच्यूअल फण्ड के साथ शेयर बाजार में पैसा लगा सकते हैं?
उत्तर: हां, डायरेक्टली रूप से नहीं लेकिन आप इक्विटी फंड में इनडायरेक्टली रूप से निवेश कर सकते हैं।

ये भी पढ़े

शेयर बाजार में रोजाना 1000 रुपये कैसे कमाएं?

Mutual Fund vs Stock market: कौन सा सही है?

Sensex और Nifty में क्या अंतर है?

कहां Investment करें Hindi मे

Share Market से आप कितना कमा सकते हैं?

BITCOIN में INVEST कैसे करें?

Leave a Comment