Litecoin क्या है? यह Bitcoin से कैसे अलग है? | Litecoin Kya hai In Hindi ?

Litecoin क्या है? यह Bitcoin से कैसे अलग है? | Litecoin Kya hai In Hindi ? : दोस्तों हमने पिछले ब्लॉग में Bitcoin और Dogecoin के बारे में विस्तार से बात की थी, लेकिन आज हम एक ऐसी ही मशहूर Crypto Currancy के बारे में बात करेंगे जिसका नाम Litecoin है।

Litecoin क्या है? यह Bitcoin से कैसे अलग है?
Litecoin क्या है? यह Bitcoin से कैसे अलग है?

Bitcoin के बाद अगर किसी Crypto Currancy का नाम आता है तो वह Litecoin  है।

Litecoin को Bitcoin का छोटा भाई भी कहा जाता है जहाँ पर Bitcoin Gold, Litecoin Silver होता है.

Litecoin क्या है?

Litecoin भी Bitcoin की तरह एक प्रकार की Crypto Currancy है। यह Peer To Peer Internet Currancy है। यह लगभग Bitcoin की तरह काम करता है।

यह भी एक De-centralized Currancy है, इसे किसी Bank या किसी संस्थान द्वारा नियंत्रित नहीं किया जाता है।
Transaction Block की बात करें तो ये माईन होता है.

Market Cap की बात करें तो यह दुनियाभर में 5वें नंबर पर आता है। Litecoin को Bitcoin का छोटा भाई भी कहा जाता है.

Crypto Currancy क्या है?

क्रिप्टो करेंसी एक प्रकार की डिजिटल करेंसी होती है जिसका उपयोग Currancy Exchange के रूप में किया जाता है।

यह एक De-centralized Currancy है, इसे किसी भी देश की सरकार द्वारा नियंत्रित नहीं किया जा सकता है।

Litecoin कब और किसने शुरू किया?

Litecoin का जन्म साल 2011 में हुआ था. इसका अविष्कार Charlie Lee ने किया था ये Google के एक Employee रह चुके हैं.

दरअसल, Litecoin को Bitcoin के Replacement के रूप में बनाया गया था, ताकि इसके Mining Pool और Transaction Timeing में लगने वाले समय को कम किया जा सके।

Lee ने इसका कोर कोड बिटकॉइन से लिया है, इसका  Transaction Time Bitcoin से लगभग 4 गुना ज्यादा है।

Bitcoin और Litecoin में क्या अंतर है?

Bitcoin का आविष्कार वर्ष 2009 के आसपास हुआ था और Litecoin का आविष्कार वर्ष 2011 में हुआ था। Bitcoin का Transaction time लगभग 2.5 मिनट है जबकि Litecoin 10 मिनट का है। लाइटकोइन की कुल Coin Supply लगभग 21 मिलियन है, जबकि Bitcoin की 84 मिलियन है।

Litecoin को क्रिप्टो करेंसी की Silver कहा जाता है, जबकि Bitcoin को Gold कहा जाता है।

Litecoin की कीमत

असल में ये भी बिटकॉइन की तरह ही ऊपर नीचे होता रहता है लेकिन आज के समय में यानी जून 2022 में अगर भारतीय रुपये की बात करें तो 1 Litecoin की कीमत 10,000 रुपये के बराबर चल रही है.

यह ऊपर और नीचे होता रहता है, Litecoin की price की prediction करना असंभव है क्योंकि आप कभी नहीं जान सकते कि दुनिया भर के लोगों के दिमाग में क्या चल रहा है।

Litecoin कैसे खरीदें?

अगर आपके पास कोई और क्रिप्टो करेंसी या Bitcoin है तो आप उसे देने के बदले Litecoin खरीद सकते हैं।

भारत में ऐसे कई प्लेटफॉर्म हैं, जिनकी मदद से आप Litecoin खरीद सकते हैं।

CoinSwitch Kuber App और Coin DCX की तरह एक Crypto Currancy Exchange Platform है, जहां से आप आसानी से Litecoin या कोई अन्य Crypto Currancy खरीद सकते हैं, इसके लिए आपको केवल किसी एक प्लेटफॉर्म पर अपना Online KYC पूरा करना होगा।

Litecoin Mining किस प्रकार की होती है?

Litecoin की माइनिंग के लिए Hashing Algorithm का इस्तेमाल किया जाता है जिसमें GPU और CPU का इस्तेमाल किया जाता है जब Transaction पूरा हो जाता है तब ये Verify हो जाते हैं. जब ब्लॉक हल हो जाता है, तो मायनर्स  को उनके हिस्से का पैसा मिल जाता है, जिन्होंने इस मायनींग को करने के लिए अपना समय भी दिया।

यह Mining के लिए जिस Algorithm का उपयोग करता है वह बहुत जटिल है, जिसे Scrypt भी कहा जाता है। विभिन्न algorithms का उपयोग करने का अर्थ है विभिन्न Hardware का उपयोग करना।

जो लोग बिटकॉइन Mining करते हैं, उन्हें इस हार्डवेयर को बदलना होगा, तभी वो लाइटकॉइन Mining कर सकते हैं।

Litecoin का भविष्य:

Bitcoin के मुकाबले इसका Transaction टाइम बहुत कम है और इसकी फीस भी बिटकॉइन के मुकाबले बहुत कम है इसलिए आगे चलकर इसकी वैल्यू काफी बढ़ सकती है।

हो सकता है की ये आगे जाकर Bitcoin Prize को पीछे छोड़ दे क्योंकि Bitcoin Crypto Currency की तुलना में इसके कई फायदे हैं.

क्या हमें Litecoin खरीदना चाहिए?

असल में Litecoin या Crypto Currancy, यह एक De-centralized Currency है, इस पर किसी भी देश का नियंत्रण नहीं है, भले ही आपके साथ कुछ गलत हो जाए, आप इसकी शिकायत भी नहीं कर सकते हैं, इसलिए इसमें  उतना पैसा लगाना है, इसे खोने पर भी कोई नुकसान नहीं होना चाहिए।

यह भी हो सकता है कि आने वाले समय में यह Bitcoin की कीमत को पार कर जाए और यह भी हो सकता है कि यह शून्य हो जाए या समाप्त भी हो जाए, तो चाहे Litecoin, Ripple, Binance, Ethereum, Dogecoin या Bitcoin सभी में। निवेश का मतलब एक ही होगा।

Crypto Currancy हो या Share Market या म्यूच्यूअल फण्ड, आप जिस भी निवेश में निवेश करें, एक बात तो माननी होगी कि जितना ज्यादा रिस्क होगा, उतना ही ज्यादा रिटर्न और जितना कम रिस्क होगा, उतना ही कम रिटर्न मिलेगा।

निष्कर्ष / निष्कर्ष:

चाहे Litecoin हो या Bitcoin आखिर में De-centralized Crypto Currency के कुछ फायदे हैं अगर Bitcoin से तुलना की जाये लेकिन जब बात आती है crypto Currency की तो इसमें काफी Volatility होती है ये ऊपर नीचे होती रहती है अगर आप  बिटकॉइन नहीं खरीदना चाहते। आप Litecoin को विकल्प में रख सकते हैं।

FAQ

प्रश्न: Litecoin क्या है?
Ans: Litecoin भी Bitcoin की तरह एक डिजिटल वर्चुअल क्रिप्टो करेंसी है जिसे Peer to Peer Internet Currancy के नाम से जाना जाता है।

प्रश्न: Litecoin किस वर्ष लॉन्च किया गया था?
Ans: इसे 2011 में लॉन्च किया गया था।

प्रश्न: Litecoin का आविष्कार किसने किया?
उत्तर: इसका आविष्कार चार्ली ली ने किया था।

प्रश्न: आज Litecoin का मूल्य क्या है?
उत्तर: लगभग 10,000 भारतीय रुपये = 1 Litecoin।

प्रश्न: Litecoin कैसे खरीदें?
उत्तर: आप Litecoin को किसी भी Crypto Currancy Exchange Platform से खरीद और बेच सकते हैं।

प्रश्न: Litecoin का Symbol क्या है?
उत्तर: Litecoin का Symbol LTC है।

ये भी पढ़े

शेयर बाजार में रोजाना 1000 रुपये कैसे कमाएं?

Mutual Fund vs Stock market: कौन सा सही है?

Sensex और Nifty में क्या अंतर है?

कहां Investment करें Hindi मे

Share Market से आप कितना कमा सकते हैं?

BITCOIN में INVEST कैसे करें?

Leave a Comment