लाल किताब

लाल किताब : आपने बुरे दिन से बचने के 9 चमत्कारिक उपाय

लाल किताब : बुरे दिन से बचने के 9 चमत्कारिक उपाय
Written by admin

यदि आप ग्रह नक्षत्रों की बुरी स्थिति में हैं या आप संकटों से घिरे हैं। ऐसा भी हो सकता है कि पिछले कई महीनों से आप समस्याओं से घिरे हों। एक के बाद एक कई प्रकार की संकट आते रहते हैं और सभी धन, संपत्ति आदि संकट में ही होते हैं, तो यहां बताए गए अचूक टोटके और उपाय आजमाएं।

लाल किताब : बुरे दिन से बचने के 9 चमत्कारिक उपाय

लाल किताब : बुरे दिन से बचने के 9 चमत्कारिक उपाय

लोग अक्सर समझते हैं कि इसे टोटेक कहकर या शामाछ कर तांत्रिक या टोना-टोटका किया जाता है, लेकिन यह सब लाल किताब ज्योतिष की सात्विक टोटके हैं, आप इन्हें उपाय कह सकते हैं। कई लोग इसे विश्वास और अंधविश्वास का मामला मानते हैं। लेकिन इन उपायों को करने में किसी भी तरह से कोई नुकसान नहीं है।

IDBI Bank Balance Check | IDBI Bank Balance Enquiry Number

लाल किताब : बुरे दिन से बचने के 9 चमत्कारिक उपाय

1. हनुमान चालीसा पढ़ना: सबसे पहले आप नियम से हनुमान चालीसा पढ़ना शुरू करें। संध्यावंदन के साथ रोज हनुमान चालीसा का पाठ करना चाहिए। संध्यावंदन घर या मंदिर में सुबह या शाम को किया जाता है। पवित्र आत्मा और शांतिपूर्वक हनुमान चालीसा का पाठ करने से हनुमानजी का आशीर्वाद मिलता है, जो हमें सभी प्रकार के अज्ञात और अज्ञात से बचाता है। हनुमान चालीसा पढ़ने के तुरंत बाद में कपूर के साथ हनुमानजी की आरती करें।

हनुमानजी को चढ़ाएं चोला: अगर आप 5 बार हनुमानजी को चोला चढ़ाते हैं, तो आपको तुरंत होने वाली परेशानियों से छुटकारा मिलेगा। इसके अलावा, मंगलवार या शनिवार को अगरबत्ती के पत्ते पर आटे का एक दीपक जलाएं और इसे हनुमानजी के मंदिर में रख दें। इसे कम से कम 11 मंगलवार या शनिवार को करें।

2. नारियल की लैंडिंग: एक पानी वाला नारियल लें और उस पर 21 बार वार करें। जलने के बाद किसी देवस्थान में जाकर उसे अग्नि में जला दें। ऐसे परिवार के सदस्य, जो मुसीबत में हैं, उससे लड़ते हैं। उपरोक्त उपाय किसी भी मंगलवार या शनिवार को करने चाहिए। 5 शनिवार ऐसा करने से जीवन में अचानक आने वाले कष्टों से छुटकारा मिलेगा। यदि किसी सदस्य का स्वास्थ्य खराब है तो यह उपाय उसके लिए सर्वोत्तम है।

3. गायों, कुत्तों, चींटियों और पक्षियों को भोजन खिलाएं: पेड़, चींटी, पक्षी, गाय, कुत्ता, कौआ, विकलांग मानव आदि जैसे जानवरों के भोजन और पानी की व्यवस्था करके, उन्हें हर तरह से उनका आशीर्वाद मिलता है। इसे वेदों के पंच यज्ञों में से एक कहा गया है, ‘विश्वदेव यज्ञ कर्म’। इसे सबसे बड़ा गुण माना गया है।

मछलियों को खिलाएं: कागज पर छोटे अक्षरों में राम-राम लिखें। इन नामों को अधिकतम संख्या में लिखें और इन सभी को काट दें। अब आटे की छोटी-छोटी गोलियां बना लें और उनमें एक-एक कागज लपेट दें और नदी या तालाब में जाकर मछलियों और कछुओं को ये गोलियां खिला दें। कछुए और मछलियों को नियमित आटे की गोलियां खिलाएं और आटे में भुने हुए आटे से बनी चींटियों को खिलाएं।

* प्रतिदिन कौवे या पक्षियों को दाना डालने से संतुष्टि मिलती है।
* रोजाना चींटियों को दाना डालने से व्यक्ति को कर्ज और संकट से मुक्ति मिलती है।
* प्रतिदिन कुत्ते को रोटी खिलाने से आकस्मिक संकटों से बचा जाता है।

* प्रतिदिन आप किसी गाय को रोटी खिलाने से आर्थिक संकट दूर होते हैं।

4. जल अर्पण: एक तांबे के बर्तन में थोड़ा पानी लेकर आप उसमें थोड़ा सा लाल चंदन मिलाएं। उस बर्तन को आप अपने सिर के ऊपर रखें और रात को सो जाएं। सुबह उठने के बाद आप सबसे पहले उस पानी को तुलसी के पौधे में चढ़ाएं। ऐसा कुछ दिनों तक लगातार करें। धीरे-धीरे, आपकी सभी समस्या दूर हो जाएगी।

5. छाया का दान करें: शनिवार को एक कांसे की कटोरी में सरसों का तेल और सिक्का (रुपया-पैसा) डालें और उसमें अपना प्रतिबिंब देखें और इसे उस व्यक्ति को दें, जो तेल मांगता है या शनि मंदिर में एक कटोरा तेल लेकर आता है। शनिवार। यदि आप इस उपाय को कम से कम पांच शनिवार करते हैं, तो आपके शनि पीड़ा शांत हो जाएंगे और शनि देव की कृपा आपके ऊपर होने लगेगी।

6. जप से आपको समस्याओं से मुक्ति मिलेगी: हर दिन सभी बुरे काम करते हैं और राम का नाम, गायत्री मंत्र या महामृत्युंजय मंत्र रोजाना शुरू करते हैं। ध्यान रखें कि आपको इनमें से किसी भी मंत्र का जाप करना चाहिए। इस जप को आप सुबह या शाम को मंदिर में बैठकर अच्छे से बैठकर करें।

सुबह और शाम कम से कम 43 दिनों तक लगातार इसका जाप करें। जब इस जाप का प्रभाव शुरू होगा, तो संकट भी धीरे-धीरे दूर होने लगेगा। उपरोक्त जाप के दौरान, झूठ न बोलें, तामसिक भोजन न लें और किसी भी प्रकार का नशा न करें अन्यथा इसके बुरे परिणाम हो सकते हैं। आप दिन भर राम नाम का जाप कर सकते हैं। कलियुग में राम नाम से बड़ा कोई उपाय नहीं है।

7. गुड़ और घी का भोग: हिंदू धर्म में धूप देना और दीपक जलाना बहुत महत्वपूर्ण है। आमतौर पर, धूप दो तरह से दी जाती है। पहला गुग्गुल-कर्पूर से है और दूसरा गुड़ और घी के साथ मिलाकर एक जलते हुए शंकु पर रखा जाता है। यहां गुड़, घी और चावल से दी गई धूप का विशेष महत्व है।

गुड़, तेरस, चौदस, अमावस्या और पूर्णिमा के अलावा ग्रहण पर गुड़ और घी की धूप दें। देवताओं को गुड़ और घी का भोग अर्पित करें। किसी पूर्वज या अन्य की खातिर मत देना।

ICICI Bank Full Form क्या होती है? आईसीआईसीआई बैंक की जानकारी।

8. श्मशान में सिक्के रखें: यदि आप किसी के बिशप के पास जाना चाहते हैं जो लौटते समय श्मशान में कुछ सिक्के लेकर आएगा। पीछे मुड़कर मत देखो। इस उपाय से होने वाली अचानक बाधा तुरंत समाप्त हो जाएगी और दिव्य समर्थन शुरू हो जाएगा।

9. घर में एक्वेरियम रखें: इसके लिए आपको अपने घर में एक सजावटी फव्वारा या एक मछलीघर रखना चाहिए जिसमें 8 सुनहरी और एक काली मछली हो। इसे उत्तर या उत्तर-पूर्व की ओर रखें। यदि कोई मछली मर जाती है, तो उसे बाहर निकालें और एक नई मछली लाएं और उसमें डाल दें।

About the author

admin

Leave a Comment