भाववाचक संज्ञा की परिभाषा और उदाहरण। के बारे मे जानिए

इस लेख में हम संज्ञा की भेद भाववाचक संज्ञा के बारे में विस्तार से पढ़ेंगे।

भाववाचक संज्ञा की परिभाषा

परिभाषा: किसी शब्द या पदार्थ की स्थिति, स्थिति या भावना का वर्णन करने वाले शब्दों को भाववाचक संज्ञा कहा जाता है।

जैसे कि बचपन, बुढ़ापा, मोटापा, मिठास, थकान, मानवता, लंबाई, सहानुभूति, मुस्कान, अपनापन, परायापन, भूख, प्यास, चोरी, क्रोध, सौंदर्य आदि।

उपरोक्त उदाहरणों में, आप बचपन, वृद्धावस्था आदि को नहीं छू सकते हैं; मैं केवल अनुभव कर सकता हूं।

भाववाचक संज्ञा: परिभाषा और उदाहरण।
भाववाचक संज्ञा: परिभाषा और उदाहरण।

संज्ञा भाववाचक के कुछ अन्य उदाहरण

भारत में गरीबी बढ़ रही है।
गरीबी शब्द गरीब होने का एहसास कराता है। इसलिए, गरीबी एक भाववाचक संज्ञा शब्द है।

मैंने अपना बचपन खेलों में बिताया।
बचपन शब्द के साथ एक बच्चा होने की भावना है। इसलिए, बचपन एक भाववाचक संज्ञा है।

मेरा दोस्त मुझसे ज्यादा लंबा है।
शब्दों की लंबाई के साथ लंबा होने की भावना है। इसलिए, लंबा एक भाववाचक संज्ञा है।

रमेश और सुरेश की दोस्ती है।
दोस्ती शब्द एक दोस्त होने का एहसास देता है। इसलिए, दोस्ती एक भाववाचक संज्ञा है।

विकास की आवाज में बहुत मिठास है।
मिठास शब्द से मिठास का अहसास होता है। इसलिए, मिठास एक भाववाचक संज्ञा है।

तुम मुझे खून दो, मैं तुम्हें स्वतंत्रता दूंगा।
स्वतंत्रता शब्द के बारे में स्वतंत्रता की भावना है। इसलिए, स्वतंत्रता एक भाववाचक संज्ञा है।

मै आपसे बहुत नाराज़ हूँ।
इस वाक्य में नाराज़ एक भावना को दर्शाता है, इसलिए यह एक भाववाचक संज्ञा का एक उदाहरण है।

में तुम प्यार करता हो
इस वाक्य में, ‘प्यार’ एक भावना व्यक्त करता है, इसलिए यह भाववाचक संज्ञा है।

आपको एक इन्सानियत के रूप में उनकी मदद करनी चाहिए।
उपरोक्त वाक्य भाववाचक संज्ञा का एक उदाहरण वाक्य है, जहाँ ‘इन्सानियत’ एक भाववाचक संज्ञा है।

आपसे मिलते समय मेरे बचपन की यादें ताज़ा हो गईं।
पिछले वाक्य में, “बचपन” और “यादें” हमें भावनाओं से अवगत कराते हैं, इसलिए यह वाक्य एक भाववाचक संज्ञा का एक उदाहरण है।

आपके बगीचे में फूलों की खूबसूरती देखते ही बनती है।
दिए गए वाक्य में, खूबसूरती एक भावना है, इसलिए यह वाक्य एक भाववाचक संज्ञा का एक उदाहरण है।

हमें लोगो को छोटे बच्चों पर गुस्सा नहीं करना चाहिए।
ऊपर दिया गया वाक्य एक भाववाचक संज्ञा का उदाहरण है क्योंकि इसमें ‘गुस्सा‘ शब्द हमें भाव का एहसास कराता है।

मुझे दौड़ते हुए थकान महसूस होती है।
थकान शब्द हमें थकान हुआ महसूस कराता है, इसलिए यह संज्ञा का एक उदाहरण है।

आज भी लोग जय और वीरू की दोस्ती की मिसाल देते हैं।
ऊपर दिए गए वाक्य में, ‘दोस्ती’ शब्द हमें एक भाव देता है, जिससे यह एक भाववाचक संज्ञा बनती है।

भारत और इंग्लैंड – सिराज ने झटके से पकड़ी कुलदीप की गर्दन

भाववाचक संज्ञा बनाना
जातिवाचक संज्ञा से भाववाचक संज्ञा बनाना

मनुष्य = मनुष्यता
मित्र = मित्रता
प्रभु = प्रभुता
बच्चा = बचपन
शैतान = शैतानी

सर्वनाम से भाववाचक संज्ञा बनाना

सर्व = सर्वस्व
माँ = ममता, ममत्व
पराया = परायापन

विशेषण से भाववाचक संज्ञा बनाना

अच्छा = अच्छाई
सुन्दर = सुन्दरता, सौंदर्य
शीतल = शीतलता
सफल = सफलता
कायर = कायरता

श्री शनि चालीसा – shani chalisa

क्रिया से भाववाचक बनाना

पढना = पढाई
खोजना = खोज
सीना = सिलाई
जितना = जीत
रोना = रुलाई

संज्ञा से भाववाचक बनाना

मनुष्य = मनुष्यता

पशु = पशुत्व

भार = भारीपन

मित्र = मित्रता

किशोर = किशोरपन

बूढ़ा = बुढ़ापा

मित्र = मैत्री

भ्राता = भ्रातृत्व

Leave a Comment